Friday, 2 August 2013

आखिर हम भी पढ़े-लिखे लोग हैं!

आखिर हम भी पढ़े-लिखे लोग हैं!
एक हैं बंधु ..उनके आगे तिर्की लगा है यानी कि बंधु तिर्की और दूसरे हैं चमरा …लिंडा. दोनों है झारखण्ड विधान सभा के निर्दलीय विधायक. इनके बलबूते ही हेमंत सोरेन की सरकार टिकी है जो कि अभी हाल ही में मुख्य मंत्री की कुर्सी सम्हाले हैं. उनके अंदर अभीतक सिर्फ दो मंत्री हैं एक है कांग्रेस के श्री राजेंद्र सिंह और दूसरी है श्रीमती अन्नपूर्णा देवी राजद की विधायक ये तीनो लगभग अपना बराबर कद रखते हैं. फिर भी कांग्रेस नेता राजेंद्र सिंह का बोलबाला ज्यादा है क्योंकि उनकी कृपा से ही हेमंत सोरेन सोनिया गांधी का आशीर्वाद पाने में सक्षम हुए और सरकार बनाने का दावा पेश कर सके. कांग्रेस और राजद के सहयोग से बनी सरकार को निर्दलीय का भी समर्थन प्राप्त है. अब राजेंद्र सिंह ने कह दिया कि कि निर्दलीय को मंत्रीमंडल में शामिल नही किया जायेगा. अब क्या करें बंधु और चमरा… दिल्ले में डेरा जमा बैठे – कहा हमारी मांगें (मत्री पद वाली) मान ली जाय तो वे कांग्रेस के साथ मिलने को तैयार हैं.. उन्होंने तो आवेश यहाँ तक कह दिया कि अगर उनकी मान मान ली गयी तो वे अपनी(निर्दलीय पार्टी) तो क्या राजनीति भी छोड़ने को तैयार हैं. मेरा अराजनीतिक मन बड़ा बेचैन हुआ … बिना राजनीति में आए मंत्री पद कैसे प्राप्त किया जा सकता है? बहुत सोच विचार करने के बाद राजनीतिक विद्वानों से विचार विमर्श के बाद पता चला कि हमारे प्रधान मंत्री तो खालिस गैर राजनीतिक है और वे इस गरिमामयी धरती आर्यावर्त (अब भारत अर्थात इण्डिया) के प्रधान मंत्री हैं. कांग्रेस की राजनीति हमेशा हावी रही है साम दाम दंड भेद का पूरा पूरा उपयोग केवल यही पार्टी कर पाती है. बिहार से भाजपा को सत्ता से बाहर किया फिर झारखण्ड में भाजपा को हटाकर स्वयं आसीन हो गयी. अब लगता अपने विधायकों की संख्या बढ़ाने में लगी है. अभी तक कांग्रेस के पास तेरह विधायक हैं, जो कि जल्द ही बढ़कर १५ होने वाले हैं. वोट देने के लिए आप स्वतंत्र है, उसी तरह विधायक बिकने के लिए स्वतंत्र हैं!
यहाँ ज्ञातव्य है कि हेमंत सोरेन ने कांग्रेस, राजद और निर्दलीयों के समर्थन से सरकार बनाई है. सरकार में झामुमो के 18, कांग्रेस के 13, राजद के पांच, मासस के एक और छह निर्दलीय विधायक शामिल हैं. तब निर्दलीयों ने बिना शर्त (सशर्त) समर्थन की बात कही थी.
बंधु तिर्की महोदय ने आगे कहा – “आखिर हम भी पढ़े लिखे लोग हैं!”
पढ़े लिखे लोगों से पता चला कि हमारे रत्नगर्भा झारखण्ड के वर्तमान मुख्य मंत्री श्री हेमंत सोरेन भी पढ़े लिखे होनहार नौजवान हैं! यही बात श्री अखिलेश यादव (उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री) के बारे में कहा जाता है. अब पढ़े लिखे युवाओं की संख्या (जो राजनीति में अपना भाग्य आजमाईश के दौर में हैं) में लगातार वृद्धि हो रही है वे हैं आदरणीय शकुनी चौधरी के पुत्र सम्राट चौधरी, लालू पुत्र तेज प्रताप और तेजस्वी, रामविलास पुत्र चिराग पासवान!
महामहिम ठाकरे, श्री चौटाला और युवराज तक हमारी पहुँच नही है, इसलिए उनकी बात नही कहूँगा, क्या पता, मेरे ऊपर हमला ही न हो जाय!

No comments:

Post a comment